01 अप्रैल 2020

तिथि

तक::

नक्षत्र

मू तक ::

योग

आयुष्मान तक ::

होम/मुहूर्त

मुहूर्त

1st
अप्रैल
बुधवार, 2020
दिवस
रात

बारे में चौघड़िया मुहूर्त

चौघड़िया-चौघड़िया क्या है?

जब शीघ्रता में कोई मुहूर्त न मिलता हो तथा अचानक यात्रा पर जाना हो,कोई कार्य करना हो,तो उस समय चौघड़िया मुहूर्त का उपयोग करना श्रेयष्कर रहता है।दिन और रात के आठ-आठ बराबर भाग करने में एक-एक चौघड़िया मुहूर्त बनता है।जब दिन और रात सामान अर्थात 12 घंटे का दिन और 12 घंटे की रात होती है तो एक चौघड़िया मुहूर्त डेढ़ घंटे(पौने चार)घाटी का होता है।इसलिए इसका नाम चौघड़िया रखा गया है।

रविवार,सोमवार आदि से वार सूर्योदय से लेकर अगले दिन सूर्योदय तक रहता है।प्रत्येक वार के सूर्योदय से सूर्यास्त तक का समय उस वार का दिन मान तथा सूर्यास्त से अगले दिन के सूर्योदय तक का समय रात्रि मान होता है।दिन मान तथा रात्रि मान उदय-अस्त के अंतर आने पर घटते और बढ़ते रहते है,परन्तु वार सदैव 24 घंटे 60 घाटी का होता है।

जब भी यात्रा आदि पर जाना हो या कोई कार्य करना हो शुभ चौघड़िया (चर,लाभ,अमृत,)आदि में करना चाहिए।

1st
अप्रैल
बुधवार, 2020
दिवस
रात

बारे में होरा

होरा शब्द की उत्पति अहोरात्र शब्द से हुई है,अहोरात्र मतलब दिन-रात्रि होता है,अहोरात्र शब्द से प्रारम्भ से अ व अंतिम का त्र हटाने से होरा सब्द की उत्त्पति हुई है।होरा शब्द का अर्थ है घंटा,इस लिए होरा का मान एक घंटे का होता है।जिस दिन जो वार होता है उस से आरम्भ अर्थात सूर्योदय से एक घंटे तक उसी वार की होरा होती है,तथा दूसरे घंटे उस से छठी वार की होरा होती है।इसी कर्म से तीसरी होरा पांचवे वार एवं क्रमसः आगे भी होती है।इसी क्रम से एक दिन में 24 घंटे की 24  होरा होती है,तथा 24 होरा बीतने के बाद अगले दिन अगले वार की होरा आ जाती है।

 

सर्वकार्य सिद्दी के लिए होरा मुहूर्त श्रेयस्कर है।होरा मुहूर्त के अनुसार कार्य-आरम्भ करने के लिए मनुष्य अशुभ वार व समय में भी शुभ होरा के अनुसार भी अपना कार्य कर सकते है।सात ग्रहो या वरो के अनुसार सात होरा होती है।प्रत्येक वार के अनुसार ही होरा में भी विशेष कार्य करना  शुभ होते है।

सूर्य (रविवार) की होरा में टेंडर लेना व देना,नौकरी,व्यवसाय राजकीय कार्य करना शुभ होता है।

चंद्र (सोमवार) की होरा सभी कार्यो के लिए शुभ होती है।

भोम (मंगलवार) की होरा में युद्ध में जाना,यात्रा करना,कर्ज देना,सभा-सोसाइटी में आना-जाना और मुकदमा आदि के कार्यो के लिए शुभ होती है।

बुधवार की होरा में विद्द्या आरम्भ करना,कोष संग्रह करना,नवीन व्यापर करना,लेख लिखना,पुस्तक प्रकाशन करना,प्रार्थना पत्र देना शुभ होता है।

दिनांक /मॉस / वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
15th जनवरी 2019 बुधवार भरणी दशमी
17th जनवरी 2019 गुरूवार रोहिणी द्वादशी
18th जनवरी 2019 शुक्रवार रोहिणी, मृगशिरा द्वादशी, त्रयोदशी
23rd जनवरी 2019 बुधवार मघा तृतीया
25th जनवरी 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी, हस्ता पंचमी ,षष्ठी
26th जनवरी 2019 शनिवार हस्ता षष्ठी
29th जनवरी 2019 मंगलवार अनुराधा दशमीं
1st फरवरी 2019 शुक्रवार मूल द्वादशी ,त्रयोदशी
08th फरवरी 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा चतुर्थी
09th फरवरी 2019 शनिवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती पंचमी
10th फरवरी 2019 रविवार रेवती पंचमी ,एकादशी
15th फरवरी 2019 शुक्रवार मृगशिरा दशमी
21st फरवरी 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी द्वितीय ,तृतीया
23rd फरवरी 2019 शनिवार स्वाति पंचमी
24th फरवरी 2019 रविवार स्वाति षष्ठी
26th फरवरी 2019 मंगलवार अनुराधा अष्टमी
28th फरवरी 2019 गुरूवार मूल दशमी
02nd मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा द्वादशी
07th मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-भाद्रपदा प्रतिपदा ,द्वितीय
08th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती द्वितीय,तृतीया
09th मार्च 2019 शनिवार रेवती तृतीया
13th मार्च 2019 बुधवार रोहिणी सप्तमी
16th अप्रैल 2019 मंगलवार उत्तरा-फाल्गुनी त्रयोदशी
17th अप्रैल 2019 बुधवार उत्तरा-फाल्गुनी त्रयोदशी
18th अप्रैल 2019 गुरूवार हस्त चतुर्दशी
19th अप्रैल 2019 शुक्रवार स्वाति प्रतिपदा
20th अप्रैल 2019 शनिवार स्वाति प्रतिपदा ,द्वितीय
22nd अप्रैल 2019 सोमवार अनुराधा चतुर्थी
23rd अप्रैल 2019 मंगलवार मूल पंचमी
24th अप्रैल 2019 बुधवार मूल पंचमी ,षष्ठी
25th अप्रैल 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा सप्तमी
26th अप्रैल 2019 शुक्रवार उत्तरा-षाढ़ा सप्तमी ,अष्टमी
02nd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती त्रयोदशी
06th मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीय
07th मई 2019 मंगलवार मृगशिरा तृतीया ,चतुर्थी
08th मई 2019 बुधवार मृगशिरा चतुर्थी
12th मई 2019 रविवार मघा नवमी
14th मई 2019 मंगलवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी,एकादशी
15th मई 2019 बुधवार हस्त द्वादशी
17th मई 2019 शुक्रवार स्वाति चतुर्दशी
19th मई 2019 रविवार अनुराधा प्रतिपदा
21st मई 2019 मंगलवार मूल तृतीया
23rd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी ,षष्ठी
28th मई 2019 मंगलवार उत्तरा-भाद्रपदा दशमी
29th मई 2019 बुधवार उतरा-भाद्रपदा,रेवती एकादशी
30th मई 2019 गुरूवार रेवती एकादशी
08th जून 2019 शनिवार मघा षष्ठी ,सप्तमी
09th जून 2019 रविवार मघा सप्तमी
10th जून 2019 सोमवार उत्तरा-फाल्गुनी अष्टमी,नवमी
12th जून 2019 बुधवार हस्त दशमी
13th जून 2019 गुरूवार स्वाति द्वादशी
14th जून 2019 शुक्रवार स्वाति द्वादशी
15th जून 2019 शनिवार अनुराधा त्रयोदशी ,चतुर्दशी
16th जून 2019 रविवार अनुराधा चतुर्दशी
17th जून 2019 सोमवार मूल प्रतिपदा
18th जून 2019 मंगलवार मूल प्रतिपदा
19th जून 2019 बुधवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय ,तृतीया
25th जून 2019 मंगलवार उत्तरा-भाद्रपदा अष्टमी ,नवमी
26th जून 2019 बुधवार रेवती नवमी
06th जुलाई 2019 शनिवार मघा पंचमी
07th जुलाई 2019 रविवार उत्तरा-फाल्गुनी षष्ठी
08th नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा द्वादशी ,त्रयोदशी
09th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-भाद्रपदा ,रेवती द्वादशी
10th नवंबर 2019 रविवार रेवती त्रयोदशी
14th नवंबर 2019 शुक्रवार रोहिणी,मृगशिरा द्वितीय ,तृतीया
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी ,हस्त एकादशी
23rd नवंबर 2019 शनिवार हस्त द्वादशी
24th नवंबर 2019 रविवार स्वाति त्रयोदशी
30th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
05th दिसंबर 2019 गुरूवार उत्तरा-भाद्रपदा नवमी,दशमी
06th दिसंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा दशमी
11th दिसंबर 2019 बुधवार रोहिणी पूर्णिमा
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा पूर्णिमा ,प्रतिपदा

बारे में विवाह मुहूर्त

जीवन में संस्कारो का विशेष महत्व होता है,और बात विवाह संस्कार की हो तो महतवपूर्ण होने साथ-साथ इससे जुडी समस्त जानकारी का होना भी उत्तना ही आवश्यक हो जाता है।विवाह दो आत्माओ का मिलन होता या कहे स्त्री व पुरुष का जीवन भर का बंधन जिसे वह पूर्णता के साथ निभाने के लिए वचन बद्ध होते है।हिन्दू धार्मिक परम्पराओ और मान्यताओं के आधार से विवाह करने  के लिए कन्या व वर की कुंडली का मिलान किया जाता है,मांगलिक दोष व अशुभ दोषो के रहित होने पर विद्धान आचार्य विवाह की स्वीकृति देते है।जितना शास्त्रीय आधार विवाह के लिए कुंडली और गुण मिलान का होता है उतना ही शुभ विवाह मुहूर्त का भी होता है।इस लिए शास्त्रीय मान्यता के आधार से शुद्ध व दोष रहित विवाह मुहूर्त को ग्रहण किया जाना चाहिए।वर व कन्या की जन्म राशि अथवा नाम राशि के आधार पर त्रिबल शुद्ध मुहूर्त(सूर्य-चंद्र-बृहस्पति) की शुद्धि के उपरांत ही ग्रहण करने चाहिए।वर व कन्या की जन्म राशि व नाम राशि से लग्न शुद्धि का विचार करना चाहिए।अशुभ ग्रह योग में अशुभ ग्रह का दान करने के उपरांत ही विवाह संस्कार किया जाना शुभ रहता है।अधिक जानकारी हेतु हमारे विद्धान आचार्यो से परामर्श ले।

दिनांक/ मॉस / वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
09th फरवरी 2019 शनिवार उत्तरा-भाद्रपदा पंचमी,रेवती
14th फरवरी 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा दशमी
15th फरवरी 2019 शुक्रवार मृगशिरा दशमी ,एकादशी
21st फरवरी 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी,तृतीया द्वितीय
23rd फरवरी 2019 शनिवार चित्रा पंचमी
25th फरवरी 2019 सोमवार अनुराधा सप्तमी
02nd मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा एकादशी
07th मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय
08th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा ,रेवती द्वितीय ,तृतीया
09th मार्च 2019 शनिवार रेवती तृतीया
13th मार्च 2019 बुधवार रोहिणी सप्तमी
21st मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी प्रतिपदा
22nd मार्च 2019 शुक्रवार चित्रा द्वितीय
25th मार्च 2019 सोमवार अनुराधा पंचमी
29th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
30th मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
06th मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीय, तृतीया
16th मई 2019 गुरूवार चित्रा त्रयोदशी
23rd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
29th मई 2019 बुधवार उत्तरा-भाद्रपदा ,रेवती दशमी,एकादशी
30th मई 2019 गुरूवार रेवती एकादशी
12th जून 2019 बुधवार चित्रा दशमी ,एकादशी
13th जून 2019 गुरूवार चित्रा एकादशी
15th जून 2019 शनिवार अनुराधा त्रयोदशी
19th जून 2019 बुधवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय
20th जून 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा तृतीया
30th अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा तृतीया
02nd नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा सप्तमी
09th नवंबर 2019 शनिवार रेवती त्रयोदशी
13th नवंबर 2019 बुधवार रोहिणी द्वितीय
14th नवंबर 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा द्वितीय ,तृतीया
15th नवंबर 2019 शुक्रवार मृगशिरा तृतीया
21st नवंबर 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी ,एकादशी दशमी,एकादशी
30th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
06th दिसंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा ,रेवती दशमी
07th दिसंबर 2019 शनिवार रेवती एकादशी
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा प्रतिपदा

बारे में गृह प्रवेश

घर छोटा या बड़ा हो व्यक्ति उसे अपने सामर्थ्य के अनुसार बनता है।व्यक्ति  जीवन भर की कमाई को घर बनाने में लगा देता है,इस लिए व्यक्ति के सपने घर से जुड़े होते है,और परिश्रम से जीवन में घर की प्राप्ति करता है।गृह निर्माण या गृह खरीदने के उपरांत व्यक्ति को शुभ मुहूर्त में ही गृह प्रवेश करना चाहिए।गृह प्रवेश हेतु शास्त्र सम्मत मुहूर्त तिथि-वार-नक्षत्र-योग-करण-लग्न व ग्रह योगो के अनुसार ही गृह प्रवेश किया जाना चाहिए।गृह प्रवेश में मुहूर्त के साथ ही धार्मिक पध्दति के अनुसार पूजा-पाठ-मन्त्र-जाप-हवन  व दान करना चाहिए ताकि गृह निर्माण में उत्त्पन्न दोषो की शांति हो और सुख-समृद्धि-शांति-सम्पनता की प्राप्ति हो।
आप हमरे विद्धान आचार्यो द्वारा जन्म राशि व नाम राशि अनुसार शुभ मुहूर्त की जानकारी प्राप्त कर सकते है,गृह प्रवेश हेतु आप हमरे विद्धान आचार्यो द्वारा धार्मिक अनुष्ठान के लिए भी संपर्क कर सकते है।

दिनांक/ मॉस/ वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
14th जनवरी 2019 सोमवार रेवती अष्टमी
17th जनवरी 2019 गुरूवार रोहिणी एकादशी
18th जनवरी 2019 रविवार मृगशिरा त्रयोदशी
20th जनवरी 2019 रविवार पुनर्वसु पूर्णिमा
21st जनवरी 2019 सोमवार पुष्य प्रतिपदा
25th जनवरी 2019 शुक्रवार हस्त षष्ठी
27th जनवरी 2019 रविवार स्वाति अष्टमी
28th जनवरी 2019 सोमवार स्वाति अष्टमी
30th जनवरी 2019 बुधवार अनुराधा दशमी ,एकादशी
07th फरवरी 2019 गुरूवार शतभिषा तृतीया
10th फरवरी 2019 रविवार रेवती पंचमी ,षष्ठी
14th फरवरी 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा दशमी
15th फरवरी 2019 शुक्रवार मृगशिरा दशमी ,एकादशी
17th फरवरी 2019 रविवार पुनर्वसु ,पुष्य त्रयोदशी
24th फरवरी 2019 रविवार स्वाति षष्ठी
03rd मार्च 2019 रविवार श्रवण त्रयोदशी
04th मार्च 2019 सोमवार श्रवण ,धनिष्ठा त्रयोदशी
14th मार्च 2019 गुरूवार मृगशिरा अष्टमी
17th मार्च 2019 रविवार पुष्य एकादशी
21st मार्च 2019 गुरूवार हस्त Pratipada
25th मार्च 2019 सोमवार अनुराधा पंचमी ,षष्ठी
31st मार्च 2019 रविवार श्रवण ,धनिष्ठा एकादशी
10th अप्रैल 2019 बुधवार रोहिणी ,मृगशिरा पंचमी ,षष्ठी
11th अप्रैल 2019 गुरूवार मृगशिरा षष्ठी
12th अप्रैल 2019 शुक्रवार पुनर्वसु अष्टमी
18th अप्रैल 2019 गुरूवार हस्त ,चित्रा पूर्णिमा
19th अप्रैल 2019 शुक्रवार स्वाति पूर्णिमा ,प्रतिपदा
21st अप्रैल 2019 रविवार अनुराधा तृतीया
22nd अप्रैल 2019 सोमवार अनुराधा तृतीया
28th अप्रैल 2019 रविवार धनिष्ठा दशमी
29th अप्रैल 2019 सोमवार शतभिषा दशमी ,एकादशी
02nd मई 2019 गुरूवार रेवती त्रयोदशी
09th मई 2019 गुरूवार पुनर्वसु पंचमी ,षष्ठी
10th मई 2019 शुक्रवार पुनर्वसु ,पुष्य षष्ठी
16th मई 2019 गुरूवार चित्र त्रयोदशी
19th मई 2019 रविवार अनुराधा प्रतिपदा
24th मई 2019 शुक्रवार श्रवण षष्ठी
26th मई 2019 रविवार धनिष्ठा ,शतभिषा अष्टमी
27th मई 2019 सोमवार शतभिषा अष्टमी
30th मई 2019 गुरुवार रेवती एकादशी
06th जून 2019 गुरुवार पुनर्वसु तृतीया
07th जून 2019 शुक्रवार पुष्य पंचमी
12th जून 2019 बुधवार हस्त ,चित्रा दशमी ,एकादशी
13th जून 2019 गुरुवार स्वाति एकादशी
21st जून 2019 शुक्रवार धनिष्ठा पंचमी
23rd जून 2019 रविवार शतभिषा षष्ठी
30th जून 2019 रविवार रोहिणी त्रयोदशी
04th जुलाई 2019 गुरुवार पुष्य तृतीया
11th जुलाई 2019 गुरूवार स्वाति दशमी
12th जुलाई 2019 शुक्रवार अनुराधा एकादशी
19th जुलाई 2019 शुक्रवार धनिष्ठा तृतीया
28th जुलाई 2019 रविवार रोहिणी एकादशी
05th अगस्त 2019 सोमवार हस्त ,चित्रा पंचमी ,षष्ठी
07th अगस्त 2019 बुधवार स्वाति अष्टमी
09th अगस्त 2019 शुक्रवार अनुराधा दशमी
14th अगस्त 2019 बुधवार श्रवण पूर्णिमा
15th अगस्त 2019 गुरूवार श्रवण पूर्णिमा
16th अगस्त 2019 शुक्रवार धनिष्ठा ,शतभिषा प्रतिपदा
25th अगस्त 2019 रविवार मृगशिरा दशमी
28th अगस्त 2019 बुधवार पुष्य त्रयोदशी
01st अगस्त 2019 रविवार हस्त तृतीया
05th अगस्त 2019 गुरूवार अनुराधा अष्टमी
11th अगस्त 2019 बुधवार श्रवण ,धनिष्ठा त्रयोदशी
13th अगस्त 2019 शुक्रवार शतभिषा पूर्णिमा
30th सितम्बर 2019 सोमवार स्वाति तृतीया
02nd अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा पंचमी
3rd अक्टूबर 2019 गुरूवार अनुराधा पंचमी ,षष्ठी
07th अक्टूबर 2019 सोमवार श्रवण दशमी
09th अक्टूबर 2019 बुधवार धनिष्ठा एकादशी
10th अक्टूबर 2019 गुरूवार शतभिषा त्रयोदशी
13th अक्टूबर 2019 रविवार रेवती पूर्णिमा ,प्रतिपदा
18th अक्टूबर 2019 शुक्रवार रोहिणी ,मृगशिरा पंचमी
21st अक्टूबर 2019 सोमवार पुनर्वसु ,पुष्य अष्टमी
30th अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा तृतीया
04th नवंबर 2019 सोमवार श्रवण ,धनिष्ठा अष्टमी
06th नवंबर 2019 बुधवार दशमी शतभिषा
10th नवंबर 2019 रविवार रेवती त्रयोदशी
14th नवंबर 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशीर्ष तृतीया
15th नवंबर 2019 शुक्रवार मृगशीर्ष तृतीया
17th नवंबर 2019 रविवार पुनर्वसु ,पुष्य पंचमी ,षष्ठी
18th नवंबर 2019 सोमवार पुष्य षष्ठी
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार हस्त एकादशी
24th नवंबर 2019 रविवार चित्रा ,स्वाति त्रयोदशी
01st दिसंबर 2019 रविवार श्रवण षष्ठी ,पंचमी
02nd दिसंबर 2019 सोमवार श्रवण षष्ठी ,धनिष्ठा
04th दिसंबर 2019 बुधवार शतभिषा अष्टमी
11th दिसंबर 2019 बुधवार रोहिणी पूर्णिमा
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा पूर्णिमा
20th दिसंबर 2019 शुक्रवार हस्त ,चित्र दशमी
22nd दिसंबर 2019 रविवार स्वाति एकादशी
23rd दिसंबर 2019 सोमवार अनुराधा त्रयोदशी
29th दिसंबर 2019 रविवार श्रवण तृतीया
30th दिसंबर 2019 सोमवार धनिष्ठा पंचमी

बारे में वाहन मुहूर्त

वाहन आज सभी की जरुरत है,जीवन में समृद्धि का प्रतिक है,सुगमता व सहूलियत के लिए व्यक्ति वाहन को लेता है।वाहन लेने से पहले उस से जुडी आवश्यक जानकारी विद्धान आचार्यो द्वारा ले लेनी चाहिए,ताकि भविष्य में किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना-दुर्घटना से बचा जा सके।वाहन सदैव शुभ मुहूर्त,शुभ दिन व शुभ लग्न में लेना चाहिए।वाहन लेने के उपरांत अपने धर्म के अनुसार पूजा-पाठ आदि करना चाहिए और मंगल सूचक चिन्हो को वाहन पर अवश्य स्थापित करना चाहिए।
वाहन से जुडी जानकारी हेतु आप हमारे विद्धान आचार्यो से परामर्श ले सकते है,हमारे द्वारा आपको सदैव सही दिशा निर्देश दिया जायेगा।
दिशा निर्देश में आपकी कुंडली के आधार पर शुभ-अशुभ योग की जानकारी दी जाती है,वाहन योग के समय की जानकारी,वाहन सम्बंधित शुभ रंग,वाहन सम्बंधित शुभ नंबर व विशेष उपाय दिए जाते है,साथ ही वाहन खरीदने हेतु नाम व जन्म राशि के आधार पर शुभ मुहूर्त भी दिशा निर्देश किये जाते है।

दिनांक/ मॉस/ वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
21st जनवरी 2019 सोमवार पुष्य पूर्णिमा
26th जनवरी 2019 शनिवार हस्त षष्ठी
27th जनवरी 2019 रविवार चित्रा सप्तमी
31st जनवरी 2019 गुरूवार ज्येष्ठा एकादशी
06th फरवरी 2019 बुधवार धनिष्ठा,शतभिषा द्वितीय
07th फरवरी 2019 गुरूवार शतभिषा तृतीया
10th फरवरी 2019 रविवार रेवती पंचमी
17th फरवरी 2019 रविवार पुनर्वसु द्वादशी
23rd फरवरी 2019 शनिवार चित्रा ,पंचमी चतुर्थी
8th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा द्वितीय
09th मार्च 2019 शनिवार रेवती तृतीया
13th मार्च 2019 बुधवार रोहिणी सप्तमी
21st मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी प्रतिपदा
22nd मार्च 2019 शुक्रवार चित्रा द्वितीय
25th मार्च 2019 सोमवार अनुराधा पंचमी
29th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
30th मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
06th मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीय ,तृतीया
16th मई 2019 गुरूवार चित्रा त्रयोदशी
23rd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
29th मई 2019 बुधवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती दशमी ,एकादशी
30th मई 2019 गुरूवार Revati एकादशी
12th जून 2019 बुधवार चित्रा दशमी ,एकादशी
13th जून 2019 गुरूवार चित्रा एकादशी
15th जून 2019 शनिवार अनुराधा त्रयोदशी
19th जून 2019 बुधवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय
20th जून 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा तृतीया
30th अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा तृतीया
02nd नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा एकादशी
09th नवंबर 2019 शनिवार रेवती त्रयोदशी
13th नवंबर 2019 बुधवार रोहिणी द्वितीय
14th नवंबर 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा द्वितीय ,तृतीया
15th नवंबर 2019 शुक्रवार मृगशिरा तृतीया
21st नवंबर 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी ,एकादशी
30th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-फाल्गुनी पंचमी
06th दिसंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती दशमी
07th दिसंबर 2019 शनिवार रेवती एकादशी
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा प्रतिपदा

बारे में शॉप तथा व्यापर मुहूर्त

धन की कामना हेतु व्यक्ति दुकान व व्यवसाय की शुरुआत करता है,इस लिए दुकान व व्यवसाय हेतु शुभ मुहूर्त को ग्रहण करना चाहिए।व्यक्ति को ध्यान रखना चाहिए की वह मुहूर्त जन्म राशि व नाम राशि के अनुसार ही निकले।साथ ही ग्रह योग देख ले,समय की शुभता हेतु शुभ लग्न ग्रहण करे,चंद्र बल(4 ,8 ,12 )भाव रहित चंद्र ग्रहण करे।शुभ मुहूर्त ,में पूजन-पाठ-मन्त्र-जाप,हवन,दान करने के उपरांत ही दुकान व व्यवसाय का प्रारम्भ करे।धन-लाभ व कार्य सिद्धि हेतु ईश्वर से प्रार्थना करे।
शुभ मुहूर्त व पूजन-पाठ हेतु आप हमारे विद्धान आचार्यो से संपर्क कर सकते है।

दिनांक/ मॉस/ वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
5th जनवरी 2019 शुक्रवार मघा पंचमी
11th जनवरी 2019 गुरूवार विशाखा दशमी ,एकादशी
12th जनवरी 2019 शुक्रवार अनुराधा एकादशी
01st फरवरी 2019 गुरूवार अश्लेषा प्रतिपदा
09th फरवरी 2019 शुक्रवार अनुराधा दशमी
01st मार्च 2019 गुरूवार मघा ,पूर्व-फाल्गुनी पूर्णिमा
02nd मार्च 2019 शुक्रवार पूर्व-फाल्गुनी प्रतिपदा
16th मार्च 2019 शुक्रवार पूर्व-भाद्रपदा अमावस्या
06th अप्रैल 2019 शुक्रवार मूल षष्ठी
19th अप्रैल 2019 गुरूवार मृगशिरा पंचमी
20th अप्रैल 2019 शुक्रवार मृगशिरा पंचमी
04th मई 2019 शुक्रवार मूल ,पूर्व-षाढ़ा पंचमी
10th मई 2019 गुरूवार पूर्व-भाद्रपदा दशमी ,एकादशी
11th मई 2019 शुक्रवार पूर्व-भाद्रपदा एकादशी
14th जून 2019 गुरूवार मृगशिरा प्रतिपदा
28th जून 2019 गुरूवार मूल पूर्णिमा
29th जून 2019 शुक्रवार पूर्व-षाढ़ा प्रतिपदा
12th जुलाई 2019 गुरूवार पुनर्वसु अमावस्या
13th जुलाई 2019 शुक्रवार पुनर्वसु अमावस्या ,प्रतिपदा
02nd अगस्त 2019 गुरूवार रेवती षष्ठी
03rd अगस्त 2019 शुक्रवार रेवती षष्ठी
06th सितम्बर 2019 गुरूवार पुनर्वसु एकादशी
13th सितम्बर 2019 गुरूवार विशाखा पंचमी
14th सितम्बर 2019 शुक्रवार विशाखा ,अनुराधा पंचमी ,षष्ठी
04th अक्टूबर 2019 गुरूवार अश्लेषा एकादशी
05th अक्टूबर 2019 शुक्रवार अश्लेषा एकादशी
02nd नवंबर 2019 शुक्रवार मघा पूर्व-फाल्गुनी दशमी
08th नवंबर 2019 गुरूवार विशाखा प्रतिपदा ,अनुराधा
06th दिसंबर 2019 गुरूवार अनुराधा अमावस्या
21st दिसंबर 2019 शुक्रवार मृगशिरा पूर्णिमा
27th दिसंबर 2019 गुरूवार मघा पूर्व-फाल्गुनी षष्ठी

बारे में आरम्भ मुहूर्त

किसी भी शुभ कार्य हेतु उस से जुडी जानकारी अवश्य होनी चाहिए या प्राप्त कर लेनी चाहिए ताकि किसी भी प्रकार के विघ्न-बांधा से बचा जा सके और शुभ फल को प्राप्त किया जा सके ।गृह निर्माण जितना महत्व पूर्ण है इस से जुडी जानकारी होना भी उतनी ही आवश्यक है।शास्त्रों में गृह निर्माण या गृह नीव हेतु विशेष तिथि-नक्षत्र-वार-योग-करण व लग्न मुहूर्तो को बताया गया है,साथ ही गृह निर्माण हेतु भूमि-शयन,सूर्य-भात,वृष चक्र,राहु मुख विचार,पंचक नक्षत्र,अग्निबाण का भी विचार बताया गया है,किसी भी अशुभ योग में गृह निर्माण करने से वास्तु दोष उत्पन्न होते है और उन दोषो से गृह में वास करने वाले सभी मनुष्यो को संघर्ष,परेशानियों,विघ्न-बंधाओ,रोग,शोक,भय,पीड़ा का सामना करना पड़ता है।इस लिए शुभ समय व शुभ मुहूर्तो में ही गृह निर्माण किया जाना चाहिए।आप हमारे विद्धान आचार्यो से गृह निर्माण हेतु जानकारी व परामर्श प्राप्त कर सकते है व शुभ मुहूर्त-पूजा-पाठ मांगलिक कृत्य  हेतु संपर्क भी कर सकते है।

दिनांक/ मॉस/ वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
21st जनवरी 2019 सोमवार पुष्य पूर्णिमा
26th जनवरी 2019 शनिवार हस्त षष्ठी
27th जनवरी 2019 रविवार चित्र सप्तमी
31st जनवरी 2019 गुरुवार ज्येष्ठा एकादशी
06th फरवरी 2019 बुधवार धनिष्ठा ,शतभिषा द्वितीय
07th फरवरी 2019 गुरुवार शतभिषा तृतीया
10th फरवरी 2019 रविवार रेवती पंचमी
17th फरवरी 2019 रविवार पुनर्वसु द्वादशी
23rd फरवरी 2019 शनिवार चित्र चतुर्थी ,पंचमी
09th मार्च 2019 शनिवार रेवती तृतीया
13th मार्च 2019 बुधवार रोहिणी सप्तमी
21st मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी प्रतिपदा
22nd मार्च 2019 शुक्रवार चित्रा द्वितीय ,तृतीया
25th मार्च 2019 सोमवार अनुराधा पंचमी
29th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
30th मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
06th मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीय ,तृतीया
16th मई 2019 गुरूवार चित्रा त्रयोदशी
23rd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
29th मई 2019 बुधवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती दशमी ,एकादशी
30th मई 2019 गुरूवार रेवती एकादशी
12th जून 2019 बुधवार चित्रा दशमी ,एकादशी
13th जून 2019 गुरूवार चित्रा एकादशी
15th जून 2019 शनिवार अनुराधा त्रयोदशी
19th जून 2019 बुधवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय
20th जून 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा तृतीया
30th अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा तृतीया
02nd नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा सप्तमी
09th नवंबर 2019 शनिवार रेवती त्रयोदशी
13th नवंबर 2019 बुधवार रोहिणी द्वितीय
14th नवंबर 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा द्वितीय , तृतीया
15th नवंबर 2019 शुक्रवार मृगशिरा तृतीया
21st नवंबर 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी,एकादशी
30th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
06th दिसंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती दशमी
07th दिसंबर 2019 शनिवार रेवती एकादशी
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा प्रतिपदा

बारे में मुंडन संस्कार मुहूर्त

आज जीवन जितना भी आधुनिकी करण की और क्यों न चला जाये,परन्तु हमारे जीवन में आज भी संस्कारो को लेकर मान्यता व आस्था बानी हुई है।इस लिए जन्म से लेकर मृत्यु प्रयन्त हम अपने संस्कारो को नहीं भूलते।संस्कारो से जीवन में सकारत्मक विचार व समृद्धि की प्राप्ति होती है या कहे संस्कारो से हमे मानसिक,आध्यात्मिक,व शारीरिक बल की प्राप्ति होती है।इस लिए संस्कारो को सही समय शुभ मुहूर्त में करना चाहिए।संस्कार भिन्न-भिन्न होने से संस्कारो के विधान भी भिन्न-भिन्न है।इस लिए विद्धान आचार्यो के परामर्श से शुभ मुहूर्त व शुभ समय में धार्मिक कृत्यों से संस्कारो को करना चाहिए।
आप हमारे विद्धान आचार्यो से संस्कार हेतु परामर्श व उचित जानकारी प्राप्त कर सकते है,साथ ही संस्कारो को विधि-विधान से संपन्न करने हेतु हमारे विद्धान आचार्यो से संपर्क कर सकते है।

दिनांक/ मॉस/वर्ष दिवस नक्षत्र नक्षत्र
18th जनवरी 2019 शुक्रवार रोहिणी द्वादशी
21st जनवरी 2019 सोमवार पुष्य पूर्णिमा
06th फरवरी 2019 बुधवार धनिष्ठा ,शतभिषा द्वितीय
07th फरवरी 2019 गुरूवार शतभिषा तृतीया
08th फरवरी 2019 शुक्रवार पूर्व-भाद्रपदा तृतीया
10th फरवरी 2019 रविवार रेवती पंचमी
21st फरवरी 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी द्वितीय
22nd फरवरी 2019 शुक्रवार हस्त तृतीया
08th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा द्वितीय
13th मार्च 2019 बुधवार रोहिणी सप्तमी
21st मार्च 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी प्रतिपदा
22nd मार्च 2019 शुक्रवार चित्रा द्वितीय ,तृतीया
25th मार्च 2019 सोमवार अनुराधा पंचमी
29th मार्च 2019 शुक्रवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
30th मार्च 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा दशमी
06th मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीय ,तृतीया
16th मई 2019 गुरूवार चित्रा त्रयोदशी
23rd मई 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
29th मई 2019 बुधवार उत्तरा-भाद्रपदा ,रेवती दशमी ,एकादशी
30th मई 2019 गुरूवार रेवती एकादशी
12th जून 2019 बुधवार चित्रा दशमी ,एकादशी
13th जून 2019 गुरूवार चित्रा एकादशी
15th जून 2019 शनिवार अनुराधा त्रयोदशी
19th जून 2019 बुधवार उत्तरा-षाढ़ा द्वितीय
20th जून 2019 गुरूवार उत्तरा-षाढ़ा तृतीया
30th अक्टूबर 2019 बुधवार अनुराधा तृतीया
02nd नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा सप्तमी
09th नवंबर 2019 शनिवार रेवती त्रयोदशी
13th नवंबर 2019 बुधवार रोहिणी द्वितीय
14th नवंबर 2019 गुरूवार रोहिणी ,मृगशिरा द्वितीय ,तृतीया
15th नवंबर 2019 शुक्रवार मृगशिरा तृतीया
21st नवंबर 2019 गुरूवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी
22nd नवंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-फाल्गुनी दशमी ,एकादशी
30th नवंबर 2019 शनिवार उत्तरा-षाढ़ा पंचमी
06th दिसंबर 2019 शुक्रवार उत्तरा-भाद्रपदा,रेवती दशमी
07th दिसंबर 2019 शनिवार रेवती एकादशी
12th दिसंबर 2019 गुरूवार मृगशिरा प्रतिपदा

बारे में उपनयन संस्कार मुहूर्त

आज जीवन जितना भी आधुनिकी करण की और क्यों न चला जाये,परन्तु हमारे जीवन में आज भी संस्कारो को लेकर मान्यता व आस्था बानी हुई है।इस लिए जन्म से लेकर मृत्यु प्रयन्त हम अपने संस्कारो को नहीं भूलते।संस्कारो से जीवन में सकारत्मक विचार व समृद्धि की प्राप्ति होती है या कहे संस्कारो से हमे मानसिक,आध्यात्मिक,व शारीरिक बल की प्राप्ति होती है।इस लिए संस्कारो को सही समय शुभ मुहूर्त में करना चाहिए।संस्कार भिन्न-भिन्न होने से संस्कारो के विधान भी भिन्न-भिन्न है।इस लिए विद्धान आचार्यो के परामर्श से शुभ मुहूर्त व शुभ समय में धार्मिक कृत्यों से संस्कारो को करना चाहिए।
आप हमारे विद्धान आचार्यो से संस्कार हेतु परामर्श व उचित जानकारी प्राप्त कर सकते है,साथ ही संस्कारो को विधि-विधान से संपन्न करने हेतु हमारे विद्धान आचार्यो से संपर्क कर सकते है।

ब्लॉग

और देखे